जोधपुरः राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बड़े भाई अग्रसेन गहलोत के घर और दुकान पर प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की छापेमारी चल रही है. बताया जा रहा है कि कथित उवर्रक घोटाले में ईडी ने अशोक गहलोत के फार्म हाउस पर छापेमारी की है. अग्रसेन गहलोत खाद और बीज का कारोबार करते हैं और उनपर इसी मामले में घोटाले का आरोप है.


अग्रसेन गहलोत अनुपम कृषि कंपनी के मालिक हैं और कस्टम विभाग ने इस पर मुकदमा चलाया था. इसके अलावा उनकी कंपनी पर 7 करोड़ रुपये की पेनल्टी लगाई थी.

इसके अलावा ईडी ने इसी उर्वरक घोटाले के सिलसिले में राजस्थान, पश्चिम बंगाल, गुजरात और दिल्ली में तलाशी अभियान चलाया है. अग्रसेन गहलोत के ठिकानों पर छापेमारी की जा रही है और इसके अलावा पूर्व सांसद बद्री राम जाखड़ के घर पर भी ईडी ने छापा मारा है.


क्या है मामला
दरअसल साल 2017 में अशोक गहलोत के भाई अग्रसेन गहलोत का नाम फर्टिलाइजर यानी उवर्रक घोटाले में सामने आया था. उन पर आरोप लगे थे कि उन्होंने साल 2007 से 2009 के बीच किसानों के हक को मारकर निजी कंपनियों को फायदा पहुंचाया. अशोक गहलोत राजस्थान के तत्कालीन मुख्यमंत्री थे. अग्रसेन गहलोत पर आरोप लगा था कि उन्होंने अपने रसूख का इस्तेमाल कर किसानों को मुहैया कराए जाने वाले फर्टिलाइजर की आपूर्ति में घोटाला किया था. साल 2017 में बीजेपी ने इस मामले को लेकर अशोक गहलोत पर जोरदार हमला भी बोला था.


अशोक गहलोत के करीबियों पर जांच एजेंसियों की टेढ़ी नजर
राजस्थान में जहां एक तरफ मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और पूर्व उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट के बीच सियासी जंग चल रही है, वहीं दूसरी तरफ ईडी, सीबीआई जैसी जांच एजेंसिया राजस्थान के सीएम गहलोत के करीबियों पर शिकंजा कस रही हैं. इसी कड़ी में राजस्थान पुलिस के एसएचओ की आत्महत्या के मामले में जांच सीएम हाउस तक पहुंच गई है. सीबीआई ने एसएचओ विष्णु दत्त विश्नोई की आत्महत्या के मामले में कल अशोक गहलोत के ओएसडी देवाराम सैनी को पूछताछ के लिए सीबीआई जयपुर कार्यालय में तलब किया था.